वायुयान विनिर्माण प्रभाग, नासिक
  • हमारे बारे में
  • सुविधाएँ
  • बाह्यस्रोतन
  • पुरस्कार
  • उत्पाद
  • सेवाएँ
  • हमें संपर्क करें

संक्षिप्‍त इतिहास

हिन्‍दुस्‍तान एरोनॉटिक्‍स लिमिटेड के वायुयान विनिर्माण प्रभाग, नासिक में आपका स्‍वागत है ।

वायुयान विनिर्माण प्रभाग, नासिक की वर्ष 1964 में मिग-21 वायुयान एवं के-13 प्रक्षेपास्‍त्र के अनुज्ञप्ति विनिर्माण के लिए स्‍थापना की गई ।

यह महाराष्‍ट्र राज्‍य के ओझर में स्थित है जो नासिक से लगभग 24 किलोमीटर तथा मुंबई से लगभग 200 किलोमीटर दूरी पर स्थित है ।प्रभाग तभी से अन्‍य मिग प्रकारान्‍तरों जैसे मिग-21 एम, मिग-21 बीआईएस, मिग-27 एम तथा आधुनिक वायुयान सुखोई-30 एमकेआई का विनिर्माण कर रहा है । विनिर्माण के साथ-साथ प्रभाग द्वारा मिग श्रृंखला वायुयान का ओवरहॉल किया जा रहा है तथा सुखोई-30 एमकेआई के आरओएच का ओवरहॉल भी प्रारंभ किया है ।

यह प्रभाग 1,48,20,000 स्‍क्‍वेअर मीटर के कॉम्‍प्‍लैक्‍स में फैला हुआहै जिसमें आधुनिक संयंत्र/यंत्रसामुग्री/उपस्‍कर एवं संरचना है जो 1,73,900 स्‍क्‍वेअर मीटर के क्षेत्र में निर्मित है । प्रभाग के पास विमानन प्रौद्योगिकी जिसे अभिकल्‍प एवं विकास, वायुयान के विनिर्माण एवं ओवरहॉल, उपसाधन एवं संबंधित उत्‍पाद के विभिन्‍न क्षेत्रों में उत्कृष्‍ट रुप से अर्हता प्राप्‍त एवं प्रशिक्षित जनशक्ति है ।

सुखोई-30 एमकेआई के आधुनिक प्रारंभ से एवं सुचारु गतिविधियोंतथा प्रभाग के प्रचालन के लिए वायुयान प्रभाग, नासिक को दो प्रभाग यथा विनिर्माण गतिविधियों के लिए वायुयान विनिर्माण प्रभाग (एएमडी) तथा सुधार एवं ओवरहॉलिंग (आरओएच) गतिविधियों के लिए वायुयान ओवरहॉल प्रभाग (एओडी) में विभाजित किया गया ।

अब प्रभाग स्‍वतंत्र लाभकेन्‍द्र के रुप में है तथा निम्निखिलित गतिविधियाँ कर रहा है ।
  • सुखोई-30 एमकेआई वायुयान का विनिर्माण
  • पुर्जों, इक्‍काई, प्रयोज्‍यों एवं वांतरिक्ष बंधकों की आपूर्ति
  • आयु‍वर्धन, आशोधनों, स्‍थल सुधार एवं जाँच के संबंध में एचएएल एवं गैर-एचएएल के रशियन मूल के बनाए गए वायुयानों को सहायता प्रदान करना ।
  • कार्य पैकेज के रूप में विविधीकरण के लिए सिविल वायुयान का विनिर्माण
  • इजिप्‍त, सायरिया, विएतनाम, मलेशिया, अल्‍जेरिया, पोलंड एवं रशिया को मिग पुर्जों का निर्यात करना
अ‍ब तक प्रभाग ने लगभग 900 वायुयानों का विनिर्माण किया है तथा 1900 वायुयानों के ओवरहॉलिंग गतिविधियों में सहायता प्रदान की है । 5 दशकों से अधिक अनुभव प्राप्‍त इस प्रभाग ने वैश्विक बाजार, भारतीय वायुसेना में अपनी पहचान का एहसास पहले ही किया है तथा घरेलु तथा आंतरर्राष्‍ट्रीय बाजार के किसी भी चुनौती के लिए स्‍वंय को पूरी तरह तैयार किया है ।

वर्तमान में प्रभाग के पास तकनीकी सहायता के लिए लगभग 1711तकनीकी विशेषज्ञ, 896 विशेषज्ञ एवं 620 अभियंताओ की प्रशिक्षित एवं विशेषज्ञतायुक्‍त जनशक्ति है ।
प्रभाग के पास निम्‍ननुसार मुख्‍य रुपसे पूरी तरह सुसजित सुविधाएँ उपलब्‍ध है –
  • सीएनसी यंत्रसामग्री
  • सामान्‍य उपयोग के लिए यंत्रसामग्री
  • परिशुद्धतायुक्‍त औजार विनिर्माण
  • रबर एवं प्‍लास्टिक पुर्जों का विनिर्माण
  • कैनोपी विनिर्माण/सुधार/ओवरहॉल
  • हीट ट्रीटमेंट/सरफेस ट्रीटमेंट/ पेंटिंग
  • केन्‍द्रीय प्रयोगशाला/स्थिर परीक्षण प्रयोगशाला /संसाधन परीक्षण प्रयोगशाला मौसम विज्ञान
  • वायुयान का उडान परीक्षण
  • वायुयान के कल-पुर्जे/रोटेबल्‍स का विनिर्माण/सुधार
  • हवाई यातायात नियंत्रण
  • मेनफ्रेम कंम्‍प्‍युटर
  • कंम्‍प्‍युटर पर अभिकल्‍प एवं विश्‍लेषण
  • कंम्‍पुटरीकृत उत्‍पादन योजना एवं नियंत्रण प्रणाली
  • कंम्‍पुटरीकृत एकीकृत सामग्री प्रबंधन
  • विभिन्‍न परियोजनाओं जैसे एएलएच,एलसीए,आईजेटी, मिरज-2000,मिग श्रृंखला एवं सुखोई-30 एमकेआई (लैंडिंगगियर के लिए उत्‍कृष्‍टता केन्‍द्र) के लिए लैंडिंग गियर विनिर्माण एवं आरओएच
  • वांतरिक्ष बंधकों के लिए उत्‍कृष्‍ट केन्‍द्र
पुर्जों की श्रेणी 
  •     शीट धातु पुर्जें
  •     यांत्रिक पुर्जें 
                   पारंपारिक प्रचालन सहित (जैसे ट‍र्निंग, मिलिंग, बेंच कार्य आदि)
                   सीएनसी प्रचालन सहित व्‍यापक टर्निंग एवं मिलिंग 
  •     गैर धातुय पुर्जे 
                इंजेक्‍शन मोल्‍डेड पुर्जे 
                रबड़ पुर्जे 
                फाइबर कांच पुर्जे 
  •     वायुयान संरचना असेम्‍ब्‍ली 
                वेल्‍ड की हुई असेम्‍ब्‍ली 
                रिवेट की हुई असेम्‍ब्‍ली 
  •     इकाई असेम्ब्लियाँ – हाइड्रोलिक, न्‍यूमेटिक एवं नियंत्रण प्रणालियाँ 
  •     लाइन बदलाव यूनिट (एलआरयू)
                पाइप लाईन 
                पारंपारिक रूप से मोडे गए पाइप 
                सीएनसी पर मोडे गए पाइप 
  •     स्प्रिंग – कॉम्‍प्रेशन, विस्‍तार एवं हाथ से बनाए गए स्प्रिंग 
  •     मैटैलिक टैंक – सीम/स्‍पॉट एवं टीआईजी वेल्डिंग के साथ मैटैलिक टैंक 


औजार आइटमों का श्रेणी
  • भूतल प्रहस्‍तन उपस्‍‍कर –ट्रॉलिज, कार्य स्‍टैंड आदि
  • गिनने के औजार एवं उपकरण – प्‍लग गेज/रिंग गेज/स्‍नैप गेज/को-एकसीलिटी गेज एवं थ्रेड गेज
  • स्‍टील फॉर्मिंग मैन्‍ड्रल
  • काटने के औजार – ड्रिल, काउंटरबोअर्स, रिमर्स, मिलिंग कटर्स, टैप, थ्रेडिंग डाइज एवं ब्रोचेस
  • वूडन फॉर्म ब्‍लॉक
  • स्प्रिंग
  • हस्‍त औजार
  • परीक्षण उपकरण
  • जीग एवं फिक्‍चर्स
  • भार औजार – ब्‍लैंकिंग, पर्सिंग डाइज, प्रोग्रेसिव डाइज, कंपाऊंड डाइज, कॉम्बिनेशन डाइज, डीप ड्राईंग डाइज एवं स्‍टील फॉर्मिंग डाइज
  • मोल्‍ड
  • वर्तमान टेंडर्स
वायुयान विनिर्माण प्रभाग, नासिक को एएस 9100सी गुणवत्‍ता प्रणाली प्रमाणन प्रदान किया गया है तथा कुल गुणवत्‍ता प्रबंधन को प्राप्‍त किया जा रहा है । कंपनी में प्रचलित गुणवत्‍ता प्रणाली यह उत्‍पादों की गुणवत्ता सुनिश्चित करती है तथा कच्‍चे सामग्री की प्राप्ति से ही तैयार उत्‍पाद की सुपर्दगी तक प्रक्रिया करती है । 173 से अधिक कुशल एवं अर्हता प्राप्‍त निरीक्षण कर्मचारी उच्‍च मानदंडोंके उत्‍पादों/सेवाएँओं की गुणवत्ता सुनिश्चित करते है । गुणवत्ता प्रणाली यह शॉप, गुणवत्ता नियंत्रण्‍ विभाग एवं ग्राहक निरीक्षण द्वारा निरीक्षण के तीन स्‍तरीय प्रणाली पर कार्य करती है ।
अंतिम उत्‍पाद की गुणवत्ता में उत्‍कृष्‍टता का प्रभाग द्वाराअनुकरणीय प्रयास बनाए रखने के लिए नीचले स्‍तर के तकनीशियन को सम्मिलित करते हुए शॉप स्‍तर पर चयनीत क्षेत्र में गुणवत्ता सर्कल, स्‍वयं निरीक्षण एवं शून्‍य दोष प्रचालन किया जाता है ।
  • आईएसओ 14001 पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली प्रमाणन को मान्‍यता
  • एएस 9100सी गुणवत्‍ता प्रणाली प्रमाणन को मान्‍यता
  • उत्‍कृष्‍ट उत्‍पादन प्रभाग का पुरस्‍कार – 1988-89 /1990-91/1991-92
  • राष्‍ट्रीय संरक्षा परिषद-1996-97 से भारी इंजिनियरिंग समूह की श्रेणी मे दीर्घावधी दुर्घटना रहित अवधी के लिए संरक्षा पुरस्‍कार
  • महाराष्‍ट्र शासन- 1994-95/1995-96 द्वारा कर्मचारियों के लिए उत्‍कृष्‍ट कर्मकार का पुरस्‍कार
  • कारपोरेट परिवार कल्‍याण – 1994-95  के लिए एफआईसीसीआई राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार
  • महाराष्‍ट्र शासन -1995-96 से सामाजिक वनीकरण के क्षेत्र में निरंतर निष्‍पादन बनाए रखने के लिए ‘’वनश्री’’ पुरस्‍कार
 
क्रम  सं. पुरस्कार विवरण पुरस्कार विवरण पुरस्कार प्रदाता वर्ष
1 राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी नवोन्‍मेष पुरस्‍कार :  2015-16 पॉलीमर उत्‍पाद में नवोन्‍मेष : भारतीय थलसेना वायुयान में प्रयोग किए जानेवाले इलस्‍टोमेरिक सामग्री से बने कैनोपी इनफ्ले‍टेबल सील का स्‍वदेशी विकास
 
रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय एवं केन्‍द्रीय प्‍लस्टिक अभियंत्रिकी
संस्‍थान (सीआईपीईटी), भारत सरकार
 
2015-16
2 गोल्‍डन पीकॉक इनोवेटिव उत्‍पाद /सेवा पुरस्‍कार 2014 वायुयान नियंत्रण सरफेस डीफ्लेक्‍शन गणना (एयूआरडीसी) के लिए एकल ध्रुव टील्‍ट सेन्‍सर के अभिकल्‍पन एवं विकास के लिए इनस्टिट्यूट ऑफ डाइरेक्टर्स (आईओडी), नई दिल्ली 2014
3 सोडेट पुरस्‍कार (स्‍वर्ण श्रेणी)
 
मिग-21 वायुयान के लिए टील्‍ट सेन्‍सर के अभिकल्‍पन एवं विकास के लिए (एयूआरडीसी)
 
रक्षा प्रौद्योगिकी सोसाइटी, नई‍ दिल्ली (सोडेट) 2013-14
 
4 सोडेट पुरस्‍कार (कांस्‍य श्रेणी) सुखोर्इ्र-30 एमकेआई वायुयान पर प्रोजेक्‍ट आई शाडो को लगाना रक्षा प्रौद्योगिकी सोसाइटी, नई‍ दिल्ली (सोडेट)
 
2013-14
 
5 ऊर्जा संरक्षण एवं प्रबंधन पुरस्‍कार : 2013-14
 
वैयक्तिक श्रेणी के तहत ऊर्जा संरक्षण, नवोन्‍मेष एवं प्रबंधन के क्षेत्र में योगदान के लिए द्वितीय पुरसकार  (2013-14)
 
महाराष्‍ट्र ऊर्जा विकास अधिकरण (एमईडीए), महाराष्‍ट्र शासन 2013-14
 
सुखोई-30 एमकेआई
दो आसनोंवाला, बहुउद्देशीय, लंबी दूरी तक मारक लड़ाकू/बमवर्षक/वायुश्रेष्‍ठता युक्‍त वायुयान
 
मिग-27 एम
एक आसन वाला विभिन्‍न गति के साथ पंखों को चलाते हुए चातुर्य लड़ाकू/बमवर्षक वायुयान
 
मिग -21 प्रकारान्‍तर
एक आसन वाला, प्रथम पंक्ति का अंतरावरोधक/लड़ाकू वायुयान ।
 
धातुय ड्रॉप टैंक
प्रभाग द्वारा 490 एवं 800 लीटर क्षमता के विभिन्‍न प्रकार को धातुय ड्रॉप (जैट्टीसोनेबल) टैंको का विनिर्माण किया जाता हैं ।
 
अंडरकैरिज
यह प्रभाग मिग-27 एम एवं मिग 21 प्रकारान्‍तरों, एएलएच, एलसीए, आईजीटी, मिरज-2000 एवं सुखोई-30 एमकेआई के अंडरकैरिजों के विनिर्माण एव ओवरहॉल की सुविधाओं से युक्‍त एवं निपुण हैं । लैंडिंग गियर यह रुढि़गत त्रिचक्रीय प्रकार के तथा उड़ान भरते समय या जमीन पर उतरते समय वायुयान की गति के साथ घूमने वाले एक चलानेयोग्‍य नोज व्‍हील लेग एवं दो मुख्‍य व्‍हील लेग होते हैं । लैंडिंग गियर ले यह वायुयुक्‍त शॉक एब्‍जार्बर होते हैं ।
 
निकासी आसन (इजेक्‍शन सीट)
संयुक्‍त निकासी गन की सहायता से बाहर की ओर धकेलते हुए पाइलट को सुरक्षित निकलने के लिए निकासी आसन लगाया जाता है । यह प्रभाग मिग-27 एवं मिग-21 प्रकारान्‍तरों के लिए निकासी आसन क विनिर्माण एवं ओवरहॉल की सुविधाओं से युक्‍त एवं निपुण है ।
 
कैनोपी
इस प्रभाग में मिग-21 प्रकारान्‍तरों, मिग-27 एवं सुखोई-30 एमकेआई वायुयान की कैनोपियों का निर्माण एवं ओवरहॉल किया जाता है ।
 
रबड़ की लचीली ईंधन टंकियाँ
इस प्रभाग द्वारा मिग-21 प्रकारान्‍तरों के लिए आवश्‍यक सभी प्रकार की रबड़ क ईंधन की टंकियों का विनिर्माण एवं आपूर्ति की जाती है । ओझोन/ताप की परतों एवं विषम परिस्थितियों से निपटने के लिए रबड़ की ईंधन टंकियों को विशेष सुरक्षा की परत लगायी जाती है ।
इसे प्रभाग ने बड़ी मात्रा में रबड़ की टंकियों का निर्यात किया है ।
 
वांतरिक्ष बंधक
इस प्रभाग में 400 विभिन्‍न मानकों के तहत लगभग 7000 प्रकार के वांतरिक्ष बंधक के विनिर्माण के लिए एक अलग कॉम्‍प्‍लैक्‍स है । इनमें से कुछ प्रतिरुप –जैसे नट, बोल्‍ट,स्‍क्रू, वाशर्स, विभिन्‍न आकार/प्रकार के रिवेट, स्‍टड, डॉवेल्‍स, पिन, प्‍लग, जेओ, बोल्‍ट, पाईप कनेक्‍शन एवं स्प्रिंग हैं ।
 
हम हमारे ग्राहकों को निम्‍नलिखित सेवाएँ प्रदान करते हैं–
  • एओजी माँग की निकासी
  • रोटेबल्‍स को सुधारना एवं ओवरहॉलिंग करना
  • स्‍थलीय सुधार
  • आरएमएस आदेशों के अनुसार पुर्जों की अपूर्ति
  • दुर्घटना/घटना की जाँच करना
  • दोष की जॉच करना
  • सेवा अभियंताओं की प्रतिनियुक्ति
  • ग्राहक प्रशिक्षण
  • प्रचालन इकाईयों को तकनीकी सहायता
  • अभिकल्‍प अध्‍ययन टीम की प्रतिनियुक्ति
  • प्रकाशन/प्रचालन मैन्‍युअल
  • वारंटी सहायता एवं पुर्जे
महाप्रबंधक (एएमडी)
हिन्‍दुस्‍तान एरोनॉटिक्‍स लिमिटेड
 
वायुयान विनिर्माण प्रभाग, नासिक
ओझर टाऊनशिप डाकघर,
नासिक जिला,
महाराष्‍ट्र राज्‍य, भारत
पिन कोड 422207
 
दूरभाष : +91 2550- 277145
फैक्‍स : +91 2550 - 275849