एवियॉनिक्‍स प्रभाग हैदराबाद
1. उन्नयन और रेट्रो-संशोधन
 एचएएल, उड्डयानिकी प्रभाग, हैदराबाद ने अभिकल्‍प केन्‍द्र (एसएलआरडीसी) के साथ मिलकर एक विशेष 'उड़ान परीक्षण ग्रुप' विकसित किया है जिसकी लड़ाकू और परिवहन विमान के फिक्स्ड और रोटरी पंखों पर उड्डयानिकी प्रणाली की परीक्षण स्थापना में विशेषज्ञता है। इस समूह ने मिग -21 श्रृंखला, मिग -23, मिग -27 एम, मिग -29, सु -30 एमकेआई, एचएस 748 विमान और एएलएच, चेतक और चीता जैसे हेलीकॉप्टरों पर अपनी नवीनतम उड्डयानिकी प्रणाली स्थापित करने में सफलता हासिल की है। इसने व्यवहार्यता अध्ययन, मॉड किट के निर्माण, उड्डयानिकी प्रणाली की स्थापना और उड़ान परीक्षण में पूर्ण आत्मनिर्भरता प्रदर्शित की है।
 
2. मरम्‍मत और ओवरहाल (एमआरओ सुविधाएं)
एचएएल, उड्डयानिकी प्रभाग, हैदराबाद में रूसी, पश्चिमी और स्वदेशी विमानवाहित उपकरणों की त्रुटि जांच, मरम्मत और ओवरहाल के लिए उत्कृष्ट सुविधाएं और प्रक्रियाएं हैं। हमारे अभियंताओं के पास इन सभी प्रणालियों में विशाल अनुभव है और वे फील्ड मरम्मत भी करते हैं। चूंकि अधिकांश स्वदेशी रूप से अभिकल्‍प किए गए और परिवर्तित किए गए उपकरण "ऑन कंडिशन" उपस्‍कर हैं, इसलिए  "आवश्यकतानुसार निरीक्षण और मरम्मत" (आईआरएएन) के सिद्धांत का पालन किया जाता है, जिसका अर्थ है कि उपकरणों को नियमित / आवधिक ओवरहाल के लिए भेजने की आवश्‍यकता नहीं है।  डी सी से 40 गीगाहर्ट्ज तक आवृत्तियों के साथ पहली पीढ़ी से चौथी पीढ़ी के उपकरणों के लिए  मरम्मत सुविधाएं उपलब्ध हैं।