परिवहन वायुयान
  • हमारे बारे में
  • क्षमताएँ
  • परियोजनाएँ एवं उपलब्धियाँ
टीएआरडीसी
कानपुर स्थित परिवहन वायुयान अनुसंधान व अभिकल्प केंद्र (टीएआरडीसी) की स्थापना 1967 में हुई थी। टीएआरडीसी ने परिवहन मैरीटाइम व इंटेलिजैंस वारफेयर, वायुयान हेतु कार्य आशोधन (रोल मॉडिफिकेशन), मिशन प्रणाली के एकीकरण व एवियॉनिक्स, वायुयान उन्नयन, स्वदेशीकरण, क्षतिपूरण सर्वे व मूल्यांकन, मरम्मत व प्रिवेंटिव अनुरक्षण प्रौद्योगिकी के विकास, केबिन फरनिशिंग और ले-आउट आदि क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल कर ली है।
क्षमताएँ
  • परिवहन वायुयान का मध्य आय़ु उन्नयन,
  • ग्राहक की विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एवियॉनिक्स अभिकल्प  / संरचना आशोधन
  • औजारों एवं एवियॉनिक्स उपकरणों का उन्नयन
  • रोल मॉडिफिकेशन
  • वायुयान की क्षति / दुर्घटना से संबंधित सर्वे
  • कार्यस्थल पर मरम्मत समेत मरम्मत योजना तैयार करना
  • अभिकल्प संपर्क सहयोग, उत्पाद सुधार / विकास
  • वायुयान तकनीकी सामग्री का प्रकाशन व उनका वितरण
  • हमारे ग्राहकों के एयर कर्मीदल तथा ग्राउंड / अनुरक्षण कर्मीदल का प्रशिक्षण
  •  अनु. व विकास प्रोसेस विकास या वेंडर विकास द्वारा  स्वदेशीकरण
 
अनुमोदन
टीएआरडीसी निम्नलिखित के अधीन कार्य करता है:
  • सैन्य परिवहन वायुयान से संबंधित अभिकल्प व विकास क्रियाकलापों  के लिए सेमिलाक से अभिकल्प फर्म अनुरोध.
  • एचएएल द्वारा विनिर्मित  डॉर्नियर- 228 वायुयान के उन्नयन / आशोधन/मरम्मत तथा इसकी सतत उड़नयोग्यता से संबंधित क्रियाकलापों के लिए डीजीसीए द्वारा सीएआर-21- जे ए (CAR 21-JA) अनुमोदन।
  • विज्ञान एवं औद्योगिक अनुसंधान विभाग (सीएसआईआर), विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा इन- हाउस अनु व विकास इकाई के रूप में मान्यता
गुणवत्ता
टीएआरडीसी  अनु व विकास क्रियाकलापों में गुणवत्ता आश्वासन के लिए उत्तरदायी है जिसके तहत निम्नलिखित हैं :
  • अभिकल्प गुणवत्ता
  • मानक
  • निरीक्षण योग्यता तथा परीक्षण क्षमता की समीक्षा
  • त्रुटि जाँच
  • वेंडर  चयन व अनुमोदन
टीएआरडी द्वारा भारतीय और विदेशी ग्राहकों के लिए एचएएल द्वारा निर्मित डॉर्नियर- 228 वायुयान में उत्कृष्ट डिजिटल ऑटोपायलट, वाक् गोपनीयता प्रणाली,  मैरीटाइम पेट्रॉलिंग रडार(एमपीआर), प्रदूषण निगरानी प्रणाली (पीएसएस), इलेक्ट्रॉनिक सहयोग प्रणाली (ईएसएम), अग्रदर्शी इंफ्रारेड कैमरा (एफएलआईआर) आदि का सफलतापूर्वक एकीकरण किया है। इसके अतिरिक्त, एचएस-748, एएन-32,  बोइंग-737 जैसे परिवहन वायुयान तथा एमआई-17 ,एमआई-18 हेलिकॉप्टरों में भी विभिन्न एवियानिक्स एकीकरण किए गए हैं।

सिविल परिवहन वायुयान के क्षेत्र में, इस केंद्र को डॉर्नियर- 228 वायुयान में ऑटोमैटिक उड़ान निरीक्षण प्रणाली (एएफआईएस) तथा एचएस- 748 (एवरो) वायुयान में मध्य आयु एवियॉनिक्स उन्नयन के एकीकरण का अनुभव है।    
इसके अतिरिक्त, अभिकल्प संगठन के रूप में टीएआरडीसी सिविल भूमिका वाले डॉर्नियर- 228 वायुयान के विनिर्माण, वैधानिक और ग्राहक आवश्यकताओं तथा अप्रयोज्य प्रबंधन आवश्यकताओं, जिनका उपयोग भावी ग्राहकों द्वारा भारत सरकार के उड़ान आदि पहल के तहत किया जा सकता हो, से संबंधी क्रियाकलापों का सह संयोजन करता है।   
सिविल भूमिका वाले डॉर्नियर- 228 वायुयान में नवीनतम इंजन तथा 5 ब्लेड सम्मिश्र प्रणोदक तथा अत्यंत उत्कृष्ट एवियॉनिक्स का एकीकरण किया जा चुका है।
 प्रमुख उत्पाद
टीएआरडीसी द्वारा निम्नलिखित प्रमुख अभिकल्प आशोधन किया गया है :
डिजिटल ऑटोपायलट का एकीकरण
एमपीआर एक मल्टी मोड एक्स – बैंड रडार है जो वायु से वायु, वायु से धरती  तथा वायु से समुद्र मिशन में सहयोगी है।   
 
अग्रदर्शी इंफ्रारेड कैमरा (एफएलआईआर) का एकीकरण